Homeहिन्दू धर्मकुंभ विवाह क्यों किया जाता है Kumbh Vivah Kyu Kiya Jata Hai

कुंभ विवाह क्यों किया जाता है Kumbh Vivah Kyu Kiya Jata Hai

कुंभ विवाह क्यों किया जाता है Kumbh Vivah Kyu Kiya Jata Hai: हिन्दू धर्म में कुम्भ विवाह की परम्परा चली आ रही है लेकिन कुंभ विवाह कैसे और क्यों किया जाता है जाने

कुम्भ विवाह क्या होता है

  • Kumbh Vivah Kya Hota hai: मांगलिक दोष को दूर करने के लिए कुम्भ विवाह करना बेहद जरुरी होता है
  • जब किसी के जन्मकुंडली में 1,4,7,8,12वे स्थान पर मंगल बैठा हो
  • ऐसे में मंगल का प्रभाव 7वे घर पर पड़ता है जन्मकुंडली देखने पर पता चलता है की 7वा घर पत्नी या जीवनसंगनी का होता है
  • वर वधु के विवाह से पहले जन्मकुंडली के 7वे घर को गहराई से जांच किया जाता है जब मंगल दोष का प्रभाव 7वे घर पर हो ऐसे में उसे मांगलिक दोष कहा जाता है
  • मांगलिक दोष लगभग पैतीस प्रतिशत लोगों की जन्म कुंडलि में देखने को मिलता है जो मंगल दोष की गहराई से जांच करने पर पता चलता है
  • जो वर वधु मांगलिक दोष या अन्य दोष से प्रभावित है एंव इसके कारण विवाह टूटने का योग बन रहा है फिर जन्मकुंडली देखने के बाद कुम्भ विवाह की सलाह दी जाती है

कुंभ विवाह क्यों किया जाता है

  • जब किसी कन्या के जन्म कुंडली में विधवा योग बनता है
  • ऐसे में कुम्भ विवाह संस्कार करके कन्या के इस दोष को दूर किया जाता है
  • धर्म के अनुसार अगर किसी कन्या की कुम्भ विवाह का निवारण करे बिना किसी से विवाह कर दिया जाए
  • ऐसे में कन्या विधवा हो जाती है इसलिए कुम्भ विवाह करना बहुत जरुरी होता है
  • दोष को हटाने के लिए कन्या का विवाह पहले मिटटी के बर्तन में स्थापित भगवान विष्णु के साथ किया जाता है
  • कुम्भ विवाह समारोह बहुत ही सरल तरीके से होता है जिसमे कन्या का विवाह दहेज़ सामग्री भी होता है
  • जब एक बार कुम्भ विवाह सम्पन्नं हो जाता है फिर भगवान विष्णु की मूर्ति को जलाशय में विसर्जित कर दिया जाता है
  • इस तरह से कुम्भ विवाह सम्पूर्ण किया जाता है

जाने कुंभ विवाह कैसे किया जाता है

  • कुम्भ विवाह पूरी विधि विधान से किया जाता है
  • जब कन्या के जन्मकुंडली में दो विवाह योग मिलता है उसके बाद कन्या का कुम्भ विवाह किया जाता है
  • जिस तरह से किसी व्यक्ति के साथ विवाह पूर्ण किया जाता है
  • ऐसे ही कुम्भ विवाह में किसी निर्जीव के साथ कन्या का विवाह किया जाता है
  • उत्तर भारत में कुम्भ विवाह भगवान विष्णु की प्रतिमा के साथ किया जाता है
  • अगर किसी कन्या के जन्मकुंडली में वैधव्य योग मिलता है
  • कुम्भ-विवाह विष्णु-विवाह एंव अश्वाथा-विवाह कुंडली में मांगलिक दोष होने पर किया किया जाता है
  • जब विवाह इन पद्धतियों में से किसी एक से कर दिया जाए
  • उसके बाद मांगलिक दोष से प्रभावित वर वधु का विवाह गैर-मांगलिक दोषयुक्त कुंडली वाले के साथ किया जा सकता है
लोकप्रिय लेख

यह भी देखे