Homeहिन्दू धर्मरक्षाबंधन कब है 2024 रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है का इतिहास

रक्षाबंधन कब है 2024 रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है का इतिहास

- Advertisement -

रक्षाबंधन कब है 2024 रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है का इतिहास (raksha bandhan kab hai 2024): रक्षाबंधन भाई का बहन से बहन का भाई से स्नेह एंव प्रेम का त्यौहार है। ऐसे में आज के लेख में रक्षा बंधन कब है 2024 में एंव रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है। (raksha bandhan kyu manaya jata hai in hindi) रक्षाबंधन का इतिहास क्या है? के बारे में जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

- Advertisement -

रक्षा बंधन कब है 2024

raksha bandhan kab hai 2024: हिन्दू धर्म का प्रमुख त्यौहार में से एक त्यौहार रक्षाबंधन है ऐसे में हर वर्ष सभी भाई बहन को रक्षाबंधन पर्व का इन्तेजार रहता है। ऐसे में इस लेख में रक्षाबंधन कब है? इसके बारे में जानकारी दे रहे है। उसके बाद रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है? एंव रक्षाबंधन का इतिहास क्या है इन हिंदी में बताने का प्रयास करेंगे।

रक्षाबंधन कब है सालरक्षाबंधन कब है दिन एंव तारीख
रक्षा बंधन कब है 20242024 में रक्षाबंधन 19 अगस्त और दिन सोमवार को मनाया जाएगा
रक्षा बंधन कब है 20252025 में रक्षाबंधन कब है जल्दी अपडेट किया जायेगा
रक्षा बंधन कब है 20262026 में रक्षाबंधन कब है जल्दी अपडेट किया जायेगा
रक्षा बंधन कब है 20272027 में रक्षाबंधन कब है जल्दी अपडेट किया जायेगा
2022 me raksha bandhan kab hai

रक्षाबंधन कब है 2024

2024 Me Raksha Bandhan Kab Hai: रक्षाबंधन का त्यौहार नजदीकी आ रहा है। ऐसे में बहुत से भाई बहन जिन्हें रक्षाबंधन का त्यौहार का इन्तेजार होता है। वह जानकारी चाहते है, रक्षाबंधन कब है? इसलिए रक्षाबंधन के बारे में निम्नवत खोज, रक्षाबंधन की जानकारी के लिए करते है।

  • रक्षाबंधन का त्यौहार क्यों मनाया जाता है।
  • रक्षाबंधन की शुरुआत कैसे हुई।
  • रक्षा बंधन का इतिहास मराठी।
  • रक्षा बंधन की शुरुआत कब और कैसे हुई।
  • रक्षा बंधन पर 10 लाइन निबंध।
  • raksha bandhan kyon manaya jata hai.
  • raksha bandhan kyu manaya jata hai iska karan kya hai.
  • रक्षाबंधन कैसे मनाया जाता है।
  • रक्षाबंधन का त्यौहार कब मनाया जाता है।
  • रक्षाबंधन के दिन भाई क्या संकल्प लेता है।

रक्षाबंधन का त्यौहार क्यों मनाया जाता है

Raksha Bandhan Kyon Manaya Jata Hai: भाई बहन के स्नेह का त्यौहार रक्षाबंधन श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। आज के दिन हर वर्ष भाई के कलाई पर बहन राखी बांधती है। भाई से रक्षा का वचन मांगती है। रक्षाबंधन का धागा एक पवित्र धागा होगा है। जिसके बाँधने से एक अटूट प्रेम, स्नेह भाई बहन में के दरमियान देखने को मिलता है। रक्षा करने और करवाने के, इस रक्षाबंधन के धागे को राखी के नाम से भी जाना जाता है। लेकिन यह रक्षाबंधन का त्यौहार क्यों मनाया जाता है? रक्षा बंधन की शुरुआत कब और कैसे हुई? क्या आप जानते है?

- Advertisement -

रक्षाबंधन की शुरुआत कब और कैसे हुई

Raksha Bandhan ki shuruaat Kab Kaise Hui: हिन्दू धर्म के धार्मिक पुस्तक भविष्यपुराण में इसका जिक्र मिलता है। भविष्यपुराण के अनुसार देवाताओं और दैत्यों के बीच एक बार युद्ध छिड़ गया। इस युद्ध में बली नाम का असुर भगवान् इंद्र पर विजय प्राप्त करके अमरावती पर अधिकार जमा लिया था। ऐसे में भगवान इंद्र की पत्नी सची आग्रह लेकर भगवान् विष्णु के पास गई। भगवान विष्णु जी ने सची को सूती धागे से एक हाथ में पहने जाने वाला वयल बनाकर दिया, साथ ही भगवान विष्णु जी ने कहा इस धागे को भगवान इंद्र के कलाई पर बाँध देना। सची ने ऐसा ही किया, उन्होंने इंद्र की कलाई में वयल बांध दिया और सुरक्षा व सफलता की कामना की। इसके बाद भगवान इंद्र ने बलि को हरा कर अमरावती पर अपना अधिकार कर लिया। इसी तरह से और भी कई रक्षा बंधन की शुरुआत की कहानी प्रचलित है जिन्हें हम अगले लेख में बताने का प्रयास करेंगे।

- Advertisement -

रक्षाबंधन का इतिहास इन हिंदी

Raksha Bandhan ka Itihas in Hindi: रक्षाबंधन का इतिहास एंव कहानी बहुत प्रचलित है कहा जाता है। रक्षाबंधन की शुरुवात रानी कर्णावती एंव सम्राट हुमाऊ से हुई। मध्यकालीन युग में राजपुत एंव मुस्लिमो के बीच संघर्ष चल रहा था। रानी कर्णावती चित्तोड़ के राजा की विधवा थी। गुजरात सुल्तान बहादुर शाह से जंग को देखते हुए। अपनी प्रजा की रक्षा एंव सुरक्षा का कोई रास्ता न मिलने पर, रानी कर्णावती ने हुमांयू को राखी भेजी थी। ऐसे में हुमांयू ने रक्षा की और साथ ही रानी कर्णावती को बहन का दर्जा दिया।

raksha bandhan ka itihas in hindi

यह पढ़े:

Gorakhpur Hindi
Gorakhpur Hindihttps://gorakhpurhindi.com
गोरखपुर न्यूज़ इन हिंदी : गोरखपुर, उत्तर प्रदेश, भारत का एक जिला है और इस जिले में पर्यटन स्थल, चिड़िया घर, नौका विहार, रेलवे संग्रहालय, पार्क, मॉल, सिनेमा थियेटर इत्यादि मौजूद है गोरखपुर न्यूज़ इन हिंदी आपको वह सभी न्यूज़ से अवगत करती है जो आपके काम के हो अगर आप गोरखपुर के किसी स्थान के बारे में जानकारी चाहते है तो इस वेबसाइट पर वह सभी न्यूज़ खबर पढने को मिलेगा ~ नदीम गोरखपुरी
सम्बंधित लेख
- Advertisment -

यह भी पढ़े

Recent Comments