Homeहिन्दू धर्मविजयदशमी कब है, क्यों मनाते हैं Vijayadashmi In Hindi 2022

विजयदशमी कब है, क्यों मनाते हैं Vijayadashmi In Hindi 2022

विजयदशमी कब है विजयादशमी क्यों मनाते हैं Vijayadashmi Kab Hai 2022 In Hindi: विजयदशमी (दशहरा) का त्यौहार बहुत ही धूम धाम से मनाया जाता है ऐसे में बहुत से श्रद्धालु, विजयदशमी (दशहरा) कब है 2022 – 2023 की जानकारी चाहते है ऐसे में आज हम आपको विजयदशमी क्यों मनाते है इत्यादि की जानकारी दे रहे है

दशहरा (विजयदशमी) कब है Vijayadashmi In Hindi

विजयदशमी का त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत होने के कारण मनाया जाता है आइये जाने विजयदशमी (दशहरा) कब है तारीख (vijayadashami 2022 kab hai)

दशहरा (विजयदशमी) कब हैविजयदशमी (दशहरा) कब है तारीख
विजयदशमी (दशहरा) कब है 20222022 में विजयदशमी (दशहरा) दिन बुधवार और तारीख 5 अक्टूबर को मनाया जाएगा
दशहरा (विजयदशमी) कब है 20232023 में विजयदशमी (दशहरा) दिन मंगलवार और तारीख 24 अक्टूबर को मनाया जाएगा
Vijayadashami 2023 kab hai Date

Vijayadashami Kyu Manaya Jata Hai

विजयदशमी (दशहरा) का त्यौहार भारत में बहुत ही धूम धाम से मनाया जाने वाला पर्व है इस त्यौहार का जैसा नाम है विजयदशमी इसी से साफ़ पता चलता है विजय यानी हार जीत से इसका सम्बन्ध है विजयदशमी यानी दशहरा का त्यौहार लंका के राजा को भगवान् श्री राम ने हराया और लंका पर विजय प्राप्त किया इसी ख़ुशी में दशहरा यानी विजयदशमी का त्यौहार मनाया जाता है यह लड़ाई अच्छाई और बुराई की लड़ाई थी जिसमे बुराई का अंत हुआ और अच्छाई की जीत अब जाने विजयदशमी क्यों मनाई जाती है (Vijayadashami Kyu Manaya Jata Hai)

विजयदशमी (दशहरा) कब है 2022
Dussehra kaise manaya jata hai

दशहरा (विजयदशमी) कैसे मनाया जाता है

Dussehra kaise manaya jata hai in Hindi: भगवान् राम का सोने की लंका के राजा रावण को हराने की ख़ुशी में दशहरा (विजयदशमी) मनाया जाता है आगे जाने दशहरा (विजयदशमी) कैसे मनाया जाता है

  • भगवान राम के लंका पर विजय प्राप्त करने के बाद पुरे भारत में दशहरा का त्यौहार धूम धाम से मनाया जाता है इसके लिए रामलीला का आयोजन होता है
  • घर घर और शहर में पंडाल लगाया जाता है जिसमे रावण का वध करते हुए भगवान् श्री राम का और अन्य देवी देवताओं का मूर्ति बनाकर प्रदर्शित करते है
  • दशहरा (विजयदशमी) पर पूजा अर्जना, की जाती है और भगवन श्री राम को याद किया जाता है
  • दशहरा के दिन रैली का आयोजन होता है एंव रावण का पुतला फुकने की परम्परा निभाई जाती है इस तरह से समाज में संदेश दिया जाता है बुराई पर अच्छाई की विजय हुई

यह भी पढ़े

लोकप्रिय लेख

यह भी देखे