Homeनात शरीफतू कुजा मन कुजा हिंदी में नात Naate Paak Tu Kuja Man...

तू कुजा मन कुजा हिंदी में नात Naate Paak Tu Kuja Man Kuja

तू कुजा मन कुजा हिंदी में नात Naate Paak Tu Kuja Man Kuja Lyrics in Hindi: एक बार फिर से नात शरीफ तू कुजा मन कुजा लिरिक्स हिंदी में लेकर हाजिर है

Naate Paak Tu Kuja Man Kuja

नात शरीफतू कुजा मन कुजा
भाषाहिंदी, English
शायरमुज़फ़्फ़र वारसी
नात-ख़्वाँओवैस रज़ा क़ादरी
पोस्ट तारीख10/09/2022
पोस्ट अपडेट10/09/2022
पीडीऍफ़अपडेट किया जा रहा
MP3अपडेट किया जा रहा
डाउनलोड लिंकअपडेट किया जा रहा
केटेगरीनात शरीफ
क्रेडिटInHindiLive
अन्यजमी मैली नहीं होती कफन मैला नहीं होता
Tu Kuja Man Kuja Lyrics in Hindi

नात ए पाक तू कुजा मन कुजा हिंदी में

  • तू कुजा, मन कुजा ! तू कुजा, मन कुजा
  • बलग़ल उ़ला बिकमालिहि, कशफ-द्दुजा बिजमालिहि
  • हसुनत जमीउ़ खि़सालिहि, स़ल्लू अ़लयहि व आलिहि….. चार बार तू कुजा, मन कुजा
  • तू अमीर-ए-हरम, मैं फ़क़ीर-ए-अ’जम
  • तेरे गुन और ये लब, मैं तलब ही तलब
  • तू अता ही अता ….चार बार तू कुजा, मन कुजा
  • इल्हाम जामा है तेरा, क़ुरआँ अमामा है तेरा
  • मिम्बर तेरा अर्श-ए-बरीं, या रहमतल-लिल-आ’लमीन…….चार बार तू कुजा, मन कुजा
  • तू हक़ीक़त है, मैं सिर्फ़ एहसास हूँ
  • तू समुंदर, मैं भटकी हुई प्यास हूँ
  • मेरा घर ख़ाक पर और तेरी रह-गुज़र
  • सिद्रतुल-मुंतहा………चार बार तू कुजा, मन कुजा
  • ख़ैरुल-बशर रुत्बा तेरा, आवाज़-ए-हक़ ख़ुत्बा तेरा
  • आफ़ाक़ तेरे सामईन, या रहमतल-लिल-आ’लमीन…….चार बार तू कुजा, मन कुजा
  • डगमगाऊँ जो हालात के सामने
  • आए तेरा तसव्वुर मुझे थामने
  • मेरी ख़ुश-क़िस्मती, मैं तेरा उम्मती
  • तू जज़ा, मैं रिज़ा………चार बार तू कुजा, मन कुजा
  • अल्लाहुम्म स़ल्लि अ़ला सय्यिदिना मुह़म्मदिन
  • अल्लाहुम्म स़ल्लि अ़ला सय्यिदिना मुह़म्मदिन…….चार बार तू कुजा, मन कुजा
  • साहिब-ए-ताज वो, शाह-ए-मेअ’राज वो
  • शह-सवार-ए-बुराक़-ओ-अमीर-ए-अ’लम
  • दाफ़े-ए-हर-बला, दाफ़े-ए-हर-वबा
  • दाफ़े-ए-क़हत-ओ-ग़म, दाफ़े-ए-रंज-ओ-अलम
  • दाफ़े-ए-रंज-ओ-अलम, दाफ़े-ए-रंज-ओ-अलम
  • मेरे आक़ा, सफ़-ए-अम्बिया के इमाम
  • नाम पर जिन के लाज़िम दुरूद-ओ-सलाम
  • लाज़िम दुरूद-ओ-सलाम, लाज़िम दुरूद-ओ-सलाम
  • सब से औला व आ’ला हमारा नबी
  • सब से बाला व वाला हमारा नबी
  • अपने मौला का प्यारा हमारा नबी
  • दोनों अ़ालम का दूल्हा हमारा नबी
  • वो है हमारा नबी, वो है हमारा नबी
  • कौन देता है देने को मुँह चाहिए
  • देने वाला है सच्चा हमारा नबी
  • सच्चा हमारा नबी, सच्चा हमारा नबी
  • तू कुजा, मन कुजा ! मुस्तफ़ा ! मुजतबा
  • ख़ातिमुल-मुर्सलीन ! या रहमतल-लिल-आ’लमीन………..चार बार तू कुजा, मन कुजा
  • तू है एहराम-ए-अनवार बाँधे हुए
  • मैं दुरूदों की दस्तार बाँधे हुए
  • का’बा-ए-इश्क़ तू, मैं तेरे चार-सू
  • तू असर, मैं दुआ………….चार बार तू कुजा, मन कुजा
  • दूरियाँ सामने से जो हटने लगें
  • जालियों से निगाहें लिपटने लगें
  • आँसुओं की ज़बाँ हो मेरी तर्जुमाँ
  • दिल से निकले सदा………….चार बार तू कुजा, मन कुजा
लोकप्रिय लेख

यह भी देखे