Homeइस्लामशबे बरात की रात में क्या पढ़ा जाता है New Shabe Barat...

शबे बरात की रात में क्या पढ़ा जाता है New Shabe Barat 2024

- Advertisement -

शबे बरात की रात में क्या पढ़ा जाता है Shabe Barat Kab Hai 2024 में शबे बरात कितने तारीख को है shab e barat ki raat kya padhna chahiye कितने तारीख को है

- Advertisement -

इस्लाम धर्म का एक ख़ास दिन शबे बरात/शब ए बारात है लेकिन इस पर्व के बारें में बहुत से सवाल अक्सर पूंछे जाते है जिनके जवाब लेख में देना का प्रयास किया जा रहा है

Shabe Barat 2024: शबे बारात कब है

शबे बारात 07 मार्च 2024 को मनाया जाएगा हर वर्ष इस्लाम धर्म में शबे बारात का पर्व बड़े शान्ति से मनाया जाता है इस दिन बहुत से लोग अपने खानदान के लोगो जैसे बाप/दादा/रोश्तेदार/अन्य लोग के लिए बख्शीश की दुआ करते है साथ ही खुद के गुनाहों की तौबा करते है यह रात बहुत ही बरकत वाली रात होती है इसलिए शबे बारात की रात नमाज/दुआ/दरगाह की जियारत करना/इत्यादि किया जाता है

शब-ए-बरात का रोजा कब है?

Shabe Barat ka Roza: बहुत से लोग इस दिन रोजा रखते है रोजा रखने का दिन वही दिन होता है जिस दिन शबे बारात का त्यौहार मनाया जाता है इस हिसाब से शब-ए-बारात का रोजा 2024 में 07 मार्च को मनाया जायेगा

- Advertisement -

इस्लाम में लगभग सभी त्यौहार चाँद पर निर्भर करता है जब चाँद दिखाई देता है उसके बाद ही पर्व/त्यौहार मनाया जाता है उम्मीद है शब-ए-बरात का चाँद भी इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार 13 शाबान को दिखेगा

- Advertisement -

शब-ए-बारात का इतिहास

इस्लाम धर्म में बहुत से अरबी में होते है ऐसे ही शब-ए-बारात भी एक अरबी शब्द है शब-ए-बरात का मतलब हिंदी में निम्न है:- शब का मतलब रात और बारात का मतलब बरी= जिसका मतलब/अर्थ हिंदी में बरी वाली रात होता है हर साल शाबान महीने में 14 तारीख को शब-ए-बरात /शबे बारात मनाया जाता है

अन्य देशो में शबे बारात को अन्य नाम से भी जाना जाता है जैसे:- यह अरब में लैलतुल बराह/लैलतुन निसफे मीन शाबान के नाम से जाना जाता है

शबे बरात की रात में क्या पढ़ा जाता है

जिस दिन शबे बारात का पर्व होता है उस दिन एक मुसलमान को पूरी रात निम्न काम शबे बरात की रात में करना चाहिए/ पढ़ना चाहिए

  • दरगाह पर जियारत भी शबे बरात की रात किया जाता है
  • कुरान पाक की तिलावत भी शबे बरात की रात में किया जाता है
  • नफल व तहजुद की नमाज शब-ए-बरात में पढ़ा जाता है
  • रोजा रखना
  • कब्रिस्तान में फातिहा पढ़ना
  • मगफिरत की दुआ करना चाहिए
  • सलातुल हाजत की नमाज
  • फातिमा तस्बीह की तिलावत
  • कजा़ ए उमरी की नमाज़ पढ़ना चाहिए
  • कुरआन ए पाक की तिलावत करना चाहिए या पढ़ना चाहिए
  • अल्लाह पाक से रो रो कर अपने गुनाह की मांफी मांगनी चाहिए

सम्बंधित शबे बरात की रात में क्या पढ़ा जाता है

Gorakhpur Hindi
Gorakhpur Hindihttps://gorakhpurhindi.com
गोरखपुर न्यूज़ इन हिंदी : गोरखपुर, उत्तर प्रदेश, भारत का एक जिला है और इस जिले में पर्यटन स्थल, चिड़िया घर, नौका विहार, रेलवे संग्रहालय, पार्क, मॉल, सिनेमा थियेटर इत्यादि मौजूद है गोरखपुर न्यूज़ इन हिंदी आपको वह सभी न्यूज़ से अवगत करती है जो आपके काम के हो अगर आप गोरखपुर के किसी स्थान के बारे में जानकारी चाहते है तो इस वेबसाइट पर वह सभी न्यूज़ खबर पढने को मिलेगा ~ नदीम गोरखपुरी
सम्बंधित लेख
- Advertisment -

यह भी पढ़े

Recent Comments