Homeइस्लाममोहर्रम ताजिया क्यों मनाते हैं का इतिहास Muharram in Hindi

मोहर्रम ताजिया क्यों मनाते हैं का इतिहास Muharram in Hindi

मोहर्रम ताजिया क्यों मनाते हैं का इतिहास इन हिंदी: इस्लाम धर्म में मोहर्रम या मुहर्रम ताजिया बहुत ही धूमधाम से मनाया जाने वाला पर्व है लेकिन ऐसे बहुत से भाई बहन है जिन्हें नहीं पता होगा कि मोहर्रम ताजिया क्यों मनाते हैं मुहर्रम का इतिहास इन हिंदी ऐसे में हम आपको मुहर्रम क्यों मनाया जाता है हिंदी में जानकारी दे रहे है muharram kyon manaya jata hai Hindi Me Vidio

मुहर्रम क्या है Muharram in Hindi

इस्लाम के अनुसार मुहर्रम शब्द इस्लामिक कैलेंडर से लिया गया है सीधे और आसान भाषा में कहे तो इस्लालिक कैलेंडर का एक महीना का नाम मुहर्रम या मोहर्रम है मुहर्रम का अन्य शाब्दिक अर्थ होता है:- “प्रतिबंधित, वर्जित, निषेध या फिर गैरकानूनी” इस्लामिक कैलेंडर मुस्लिम समुदाय के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है और इस कैलेंडर के अनुसार हिजरी संवत का पहला महीना मुहर्रम है

मोहर्रम ताजिया क्यों मनाते हैं

muharram kyon manaya jata hai: मुहर्रम इस्लामिक कैलेंडर का पवित्र महीने में से एक है इस महीने को गम, दुःख और शौक के रूप में भी देखा जाता है क्योकि इसी महीने में पैगम्बर मुहम्मद (सल्लाहु अलैहि वसल्लम) के नवासे हुसैन इब्ने अली और उनके भाई, साथियों की शहादत इसी महीने में हुई थी इसलिए इस महीने को गम का महीना भी कहा जा सकता है

Muharram kyon manaya jata hai

मोहर्रम के महीने में पैगम्बर मुहम्मद (सल्लाहु अलैहि वसल्लम) के नवासे हुसैन इब्ने अली और उनके भाई, साथियों की शहादत जिस स्थान पर हुआ था उसका नाम कर्बला है और इसी कर्बला में लगभग सन ६८० में कर्बला की जंग हुई थी लेकिन इसे जंग न कहे तो बेहतर है क्योकि एक तरफ ७२ साथी (जिनमे महिलाए, बच्चे, बुजुर्ग भूखे एंव प्यासे) थे और दूसरी तरफ यजीद की हजारो की फ़ौज (muharram kyon manaya jata hai in Hindi)

यह जंग अच्छाई एंव बुराई की जंग थी जिसे हुसैन इब्ने अली और उनके भाई, साथियों ने शहादत का जाम पीकर जीत लिया कर्बला का पूरा वाकया पढने के लिए क्लिक करे

मोहर्रम ताजिया कैसे मनाया जाता है

मुहर्रम कोई पर्व नहीं है फिर भी बहुत से लोग मुहर्रम को पर्व के नाम से जानते है मुहर्रम महीने के ९वी एंव १०वी तारीख इतिहास में लोकप्रिय है क्योकि आज ही के दिन इस्लाम के पैगम्बर के नवासे इब्ने हुसैन अली और उनके भाई बेटे एंव अन्य साथियो का शाहदत हुआ था

मोहर्रम ताजिया इतिहास
Muharram kyon manaya jata hai

मुहर्रम के ९वे एंव १०वे दिन इस्लाम के मानने वाले रोजा रखते है और बहुत से शहर गाँव में ताजिया निकालने की परम्परा है साथ ही ढोल तासे बाजे गाजे के साथ ताजिया को कर्बला स्थान तक ले जाते है लेकिन इस्लाम में ही बहुत से लोग ऐसा करना गलत मानते है क्योकि यह ढोल बाजा गाजा बजाने का काम इस्लाम के दुश्मन यजीद ने किया था

इस दिन का रोजा नफिल रोजा होता है जिसे रखने से अल्लाह पाक की रहमत आप पर होती है ऐसे में ढोल तासे से दूर रहने और रोजा रखने के लिए कहा जाता है लेकिन शिया लोग मुहर्रम को मातम के रूप में मानते है और खुद को चोट देकर मुहर्रम का त्यौहार मनाते है

Muharram marsiya video | Muharram Marsiya New video | Muharram Marsiya Vidio 2023

मोहर्रम के बारे में अन्य जानकारी

मुहर्रम का त्यौहार एक गम का त्यौहार है ऐसे में मुहर्रम के बारे में अन्य जानकारी क्लिक से पढ़े;-

लोकप्रिय लेख

यह भी देखे