Homeगोरखपुर न्यूज़लेहड़ा देवी मंदिर महाराजगंज Lehra Devi mandir in Hindi

लेहड़ा देवी मंदिर महाराजगंज Lehra Devi mandir in Hindi

लेहड़ा देवी मंदिर महाराजगंज Lehra Devi mandir history in Hindi लेहड़ा का दुर्गा मंदिर Gorakhpur up to Lehra devi Mandir distance lehra devi mandir gorakhpur lehra mandir ka photo

लेहड़ा देवी मंदिर महाराजगंज

गोरखपुर से सटे महराजगंज जिले लेहड़ा देवी का मंदिर स्थित है। जिला महराजगंज में ऐसे तो बहुत से देवी देवताओं के मंदिर मौजूद है, लेकिन लेहड़ा देवी मंदिर का ऐतिहासिक एंव धार्मिक दृष्टि से विशेष महत्व है। लेहड़ा देवी मंदिर के बारे में कहा जाता है। महाभारत काल में पांडव इस मंदिर के आसपास क्षेत्र में वक्त गुजारा था। लेहड़ा देवी मंदिर के बारे में इतिहास के पन्नो में बहुत से रोचक तथ्य एंव कहानीया प्रचलित है। जिसके बारे में श्रद्धालुगढ़ जानने की उत्सुकता रखते है

Lehra Devi mandir history in Hindi

लेहड़ा देवी मंदिर के बारे में बहुत से कहानी और तथ्य मौजूद है आइये जाने लेहड़ा देवी मंदिर का इतिहास (Lehra Devi mandir history in Hindi)

  • लेहड़ा देवी मंदिर गोरखपुर से लगभग 58 किमी. पर महराजगंज जिले में स्थित है।
  • अरदौना में लेहड़ा देवी का मंदिर है जोकि फरेंदा शहर से लगभग 5 किलोमीटर की दूरी पर है।
  • लेहड़ा देवी मंदिर प्राचीन समय में आर्द्र वन नाम के जंगल से घिरा हुआ करता था।
  • अरदौना देवी के मंदिर की स्थापना महाभारत काल में पांडवों के अज्ञातवास काल में स्वयं अर्जुन ने की थी।
  • एक समय में लेहड़ा देवी मंदिर को अरदौना देवी के मंदिर के नाम से जाना जाता था

लेहड़ा देवी मंदिर की जानकारी

स्थान या मंदिर का नामलेहड़ा देवी मंदिर | Lehra Devi Mandir
लेहड़ा मंदिर फोटो विडिओAvilable
Lehra Mandir ka photo VidioAvilable
Gorakhpur up to Lehra devi Mandir distance58 किलोमीटर लगभग
basti to lehra devi distance71.1 किलोमीटर लगभग
Lehra Devi Mandir

Lehra Devi Mandir: लेहड़ा देवी मंदिर की कहानी

लेहड़ा देवी मंदिर के बारे में श्रधालुओ की मान्यता है कि वनदेवी मां ने युवती की रक्षा की थी, एक बार कोई युवती नाव से पवह नदी कर रही थी लड़की अकेले थी ऐसे में नाव चलाने वाले चालक की नियत ख़राब होने की वजह से लड़की पर हमला किया लेकिन कहा जाता है ऐसे में वनदेवी मां ने स्वयं प्रकट होकर उस लड़की की रक्षा किया। ऐसे में नाविकों को नाव के साथ ही उसी समय जल समाधि दे दी थी।

यह पढ़े:

Lehra Devi mandir history in Hindi
लोकप्रिय लेख

यह भी देखे