Homeइस्लामजुमा की नमाज़ का तरीका Juma Ki Namaz Ka Tarika Hindi me

जुमा की नमाज़ का तरीका Juma Ki Namaz Ka Tarika Hindi me

जुमा की नमाज़ का तरीका Juma Ki Namaz Ka Tarika Sunni Hindi me: शुक्रवार को जुमा या जुम्मा के नाम से भी जाना जाता है जुमा के दिन जुमा की नमाज़ पढ़ी जाती है ऐसे में जुमा के दिन जुमा की नमाज़ कैसे पढ़े और नियत कैसे करें की मुकम्मल जानकारी देने की एक छोटी सी कोशिश की जा रही है

जुमा के दिन का बयान

इस्लाम में जुमा के दिन नमाज़ पढ़ने की बहुत फजीलत बताया गया है जुमा के दिन को सप्ताह की ईद भी कहा जाता है साथ ही इस जुमा के दिन को सभी दिन का सरदार है ऐसा माना जाता है हजरत मुहम्मद (ﷺ) ने ईरशाद फरमाया “जुमा के दिन जो भी शख्स आप पर दुरूद शरीफ पढ़ेगा या भेजगा उस शख्स की गवाही एंव शफाअत खुद हजरत मुहम्मद (ﷺ) करेंगे हर दिन नमाज़ पांच टाइम पढ़ी जाती है लेकिन जुमा की नमाज अन्य नमाज़ से अलग होता है ऐसे में जाने जुमा की नमाज़ पढ़ने का तरीका हिंदी में

जुम्मा की नमाज औरतों की | जुमा की नमाज़

ऐसे तो नमाज पांच समय अदा की जाती है जिन्हें अकेले भी पढ़ा जा सकता है लेकिन जुम्मा की नमाज जमाअत के साथ पढ़ा जाता है जुम्मा या जुमा के दिन इमाम साहब पहले खुत्बा पढ़ते है लेकिन अन्य नमाज में खुतबा नहीं किया जाता है Jumma Ki Namaz ka Tarika for Ladies: जबकि औरत या औरतों की जुम्मा या जुमा की नमाज घर पर पढ़ी जाती है और औरतों की नमाज जुमा के दिन केवल जुहूर नमाज की होती है

जुम्मा की नमाज का टाइम

  • पांच वक्त की नमाज का समय अलग अलग होता है
  • ठीक ऐसे ही जुमा या जुम्मा की नमाज का समय भी थोडा अलग होता है
  • जुहूर नमाज के समय जुम्मा या जुमा की नमाज पढ़ी जाती है जो लगभग एक से डेढ़ बजे दुपहर में अदा करते है

Jumma Ki Namaz Ki Rakat | जुम्मा की नमाज की रकात

  • जुम्मा की नमाज की रकात निम्नवत है
  • चार रकात सुन्नत
  • दो रकात फर्ज
  • चार रकात सुन्नत
  • दो रकात सुन्नत
  • दो रकात नफ्ल
  • इस तरह से जुमा की नमाज में 14 रकात नमाज पढ़ी जाती है
  • जुमा की नमाज के दिन दो रकात नमाज फर्ज पढ़ी जाती है बाकी अन्य सभी रकात जुहूर नमाज की जो है वही पढ़ी जाती है
  • Jumma ki Namaz ki rakat for ladies: जुहूर नमाज में 12 रकात होती है ऐसे में जुम्मा के दिन औरत 12 रकात नमाज अदा करें

जुमा की नमाज़ की नियत इन हिंदी

जुम्मा या जुमा की जुमा की नमाज़ घर पर नहीं पढ़ी जाती साथ ही जुमा की जुमा की नमाज़ मस्जिद में ही पढ़ना होता है ऐसे में बहुत से सोचते होंगे जुमा या जुम्मा की नमाज घर पर पढ़ ले तो उनसे कहना चाहेंगे जुमा के दिन अगर घर पर या अकेले में नमाज पढ़ रहें रहे है तो केवल जुहूर की नमाज पढ़ें और जुहूर की नमाज की नियत करें जुमा की नमाज की नियत केवल मस्जिद में जमात के साथ नमाज अदा करते समय करें

Juma Ki Namaz Ki Niyat Ka Tarika

  • जुमा या जुम्मा की नमाज की नियत का तरीका निम्नवत है Juma Ki Namaz Ki Niyat Ka Tarika

नियत की मैंने 4 रकअत सुन्नत नमाज़ ए जुमा की

वास्ते अल्लाह तआला के

मुंह मेरा काबा शरीफ के तरफ

अल्लाह हु अक्बर

Juma Ki Namaz Ki Niyat Ka Tarika

जुमा की नमाज़ का तरीका JUMA NAMAZ TARIKA

  • जुमा या जुम्मा की नमाज़ का तरीका जाने
  • जुम्मा के दिन चार रकात सुन्नत नमाज सबसे पहले पढ़ें
  • उसके बाद इमाम साहब के साथ दो रकात फर्ज नमाज पढ़ें
  • फिर चार रकात सुन्नत नमाज पढ़े
  • फिर से दो रकात सुन्नत नमाज़ पढ़े
  • अब दो रकात नफ्ल की नमाज़ पढ़ें
  • इस तरह से जुमा के दिन नमाज़ में कुल 14 रकात नमाज़ पढ़ें
  • उसके बाद बारगाहे रिसालत में अपने दोनों हांथो को उठा कर अल्लाह रब्बुल इज्जत से दुआ करें
  • नमाज़ में क्या क्या पढ़ा जाता है क्लिक से देखें
लोकप्रिय लेख

यह भी देखे