HomeHistory In Hindiगोरखपुर जिले का इतिहास Gorakhpur History in Hindi

गोरखपुर जिले का इतिहास Gorakhpur History in Hindi

गोरखपुर जिले का इतिहास Gorakhpur History in Hindi: गोरखपुर का इतिहास बहुत ही पुराना है इसलिए इस जिले को प्राचीन गोरखपुर के नाम से भी जाना जाता है गोरखपुर उत्तर प्रदेश के पूर्वी हिस्से में स्थित है इस जिले की खास बात वर्तमान में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बाबा योगी आदित्यनाथ है जो गोरखपुर गोरखनाथ मठ के मठाधीश भी है आइये जाने गोरखपुर का वह इतिहास जो आप नहीं जानते

गोरखपुर जिले का इतिहास

विषयगोरखपुर जिले का इतिहास
जिला का नामगोरखपुर
प्राचीन नामगोरक्षपुर, अख्तर नगर, मोअज्जमाबाद, सूब-ए-सर्किया, रामग्राम, गोरखपुर सरकार
स्थापनासन 1801
पहला कलेक्टरश्री रूटलेज
नाम स्रोतगोरखनाथ
राज्य का नामउत्तर प्रदेश
देश का नामभारत
भाषाहिंदी, उर्दू, भोजपुरी
वासीगोरखपुरी, गोरखपुरिया
वाहन पंजीकरणUP-53
पर्यटन एंव दर्शनीय स्थलगोरखनाथ मंदिर, नौका विहार, शहीद अशफाक उल्लाह खान प्राणि उद्यान या गोरखपुर प्राणी उद्यान, रामगढ़ ताल झील, बुढिया माई मंदिर
राजमार्गएनएच 28 , एनएच 233 बी , एनएच 29
वेबसाइटhttps://gorakhpur.nic.in/
गोरखपुर जिले का इतिहास

Gorakhpur History in Hindi

  • उत्तर प्रदेश, भारत का सबसे लोकप्रिय जिला गोरखपुर है इस जिले में पर्यटन स्थल, चिड़िया घर, रेलवे म्यूजियम, नौका विहार, गोरखनाथ मंदिर, बुढ़िया माई मंदिर इत्यादि मौजूद है
  • गोरखपुर जिला की स्थापना सन 1801 में हुआ था
  • गोरखपुर का इतिहास लगभग 2600 साल पुराना है क्योकि प्राचीन गोरखपुर का नाम आठ बार बदलने के बाद नया नाम जिला गोरखपुर पड़ा
  • इस जिले का आठ पुराने नाम में से एक नाम कभी गुरुग्राम एव दूसरा नाम गोरक्षपुर भी रहा है
  • इस जिले का नाम, कालांतर में दुनिया को योग से परिचित कराने वाले गुरु गोरक्षनाथ के नाम पर, नया नाम गोरखपुर रखा गया

जिला गोरखपुर का इतिहास

  • गोरखपुर जिले का नाम आठ बार बदलने के बाद नया नाम गोरखपुर रखा
  • इससे पहले गोरखपुर को कई अन्य नाम से जाना जाता था
  • गोरखपुर शहर का प्राचीन अन्य नाम गोरक्षपुर, अख्तर नगर, मोअज्जमाबाद, सूब-ए-सर्किया, रामग्राम, गोरखपुर सरकार, पिप्पलीवन हुआ करता था
  • आज जिसे गोरखपुर के नाम से जाना जाता है यह गोरखपुर शहर का नया नाम है
  • आज के समय में रामगढ़ झील जहा मौजूद है वहा पर कभी रामग्राम बसा हुआ था
  • जो किसी श्राप के कारण झील में डूब गया इसके पीछे भी एक कहानी है जो काफी प्रचलित है
गोरखपुर का इतिहास | Gorakhpur Ki History In Hindi | GKP Ki HIstory in Hindi
लोकप्रिय लेख

यह भी देखे