Homeइस्लामबिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम का मतलब अर्थ वजीफा जाने

बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम का मतलब अर्थ वजीफा जाने

बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम का मतलब | बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम का वजीफा | bismillah meaning in hindi | Bismillah rahman rahim meaning in hindi बिस्मिल्लाह ए रहमान ए रहीम meaning


बिस्मिल्लाह ए रहमान ए रहीम को सही शब्दों में लिखे – “बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम” इसका मतलब होता है “अल्लाह के नाम से शुरू करता हु” इस्लाम धर्म में bismillah hir rahman nir raheem का बहुत ही महत्त्व है मुस्लिम समुदाय के लोग कोई भी काम की शुरुवात बिस्मिल्ला पढ़कर कर करते है क्योकि यह नाम बरकत वाला नाम है सीधे और सरल भाषा में कहे तो bismillah hir rahman nir raheem Meaning in hindi कोई भी काम अल्लाह पाक के नाम से शुरू करना है bismillah hir rahman nir raheem ka matlab photo

बिस्मिल्ला-हिर्रहमा-निर्रहीम Meaning in Hindi

इस्लाम धर्म में कुरआन पाक अल्लाह की किताब मानी जाती है सीधे कहे तो कुरआन पाक शरीफ पढने से पहले या शुरू करने वक्त पहला जो वर्ड आता है वह है “बिस्मिल्ला-हिर्रहमा-निर्रहीम” आगे जाने बिस्मिल्ला-हिर्रहमा-निर्रहीम Meaning in Hindi:

  • बिस्मिल्ला: शुरू करता हु
  • अर रहमान: अल्लाह पाक रहीम व् करीम है
  • रहीम: अल्लाह पाक के 99 नाम में से एक नाम

बिस्मिल्लाह रहमान रहीम पढ़ने के 5 फायदे

इस्लाम धर्म में बिस्मिल्लाह रहमान रहीम पढ़ने के बहुत से फायदे बताये गए है उनमे से हम आपको बिस्मिल्लाह रहमान रहीम पढ़ने के 5 फायदे क्या है के बारे में जानकारी दे रहे है:-

  1. अल्लाह पाक के 99 नाम है और बिस्मिल्ला-हिर्रहमा-निर्रहीम में अल्लाह पाक के 3 नाम एक साथ शामिल होते है जो निम्नवत है:- 1) अल्लाह 2) रहमान 3) रहीम
  2. दाग की समस्या अगर किसी को हो ऐसे में उसे चाहिए की बिस्मिल्ला पढ़े: जब हमारी जिस्म के त्वचा फट जाए और उसमे खून बहता रहे ऐसे में बिस्मिल्ला-हिर्रहमा-निर्रहीम पढ़कर फूंक मारने से इंशाअल्लाह फायदा होगा
  3. बिस्मिल्ला-हिर्रहमा-निर्रहीम में अल्लाह पाक एक नाम रहमान शामिल है ऐसे में आप जितना अधिक बिस्मिल्ला-हिर्रहमा-निर्रहीम पढेंगे अल्लाह पाक की आप पर उतना ही रहमत की बारिश होगी
  4. कुरआन पाक पढने के लिए जो सबसे पहला लफ्ज आता है वह है “बिस्मिल्ला-हिर्रहमा-निर्रहीम” जब आसमानी किताब या इतनी बड़ी किताब इस लफ्ज से शुरू होता है ऐसे में हमें अपने सभी काम भी इसी लफ्ज से शुरू करना चाहिए जिससे अल्लाह पाक की आप पर रहमत होगी
  5. अगर आपको अल्लाह पाक से मुहब्बत है ऐसे में आपको बिस्मिल्ला-हिर्रहमा-निर्रहीम पढ़ना चाहिए जिससे बन्दे और अल्लाह पाक के दरमियान मुहब्बत की वजह बने

बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम का वजीफा

अगर आपका पति/पत्नी या शोहर आपसे मुहब्बत नहीं करता है ऐसे में आप बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम का वजीफा कर सकते है इंशाअल्लाह बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम का वजीफा करने से फायदा होगा:

  • बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम का वजीफा करने के लिए सबसे पहले कोई खाने वाली मीठी चीज ले जो आपके पति या पत्नी शोहर या अहिल्या को पसंद हो
  • वजीफा शुरू करने वाले को हलाल चीज खाना है और गुनाह से बचना है और सबसे जरुरी बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम का वजीफा करते वक्त अपने मन में किसी तरह का शक व् वहम बिल्कुल न रखे
  • वजीफा को पुरे यकीन से करे और पांच वक्त की नमाज पढ़े पाबन्दी के साथ आगे जाने वजीफा करने का तरीका

60 बार आपको “बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम” पढ़कर दम खाने पीने पर दम करना है यह वजीफा आपको मुकम्मल तरीके से 90 दिन करना है नापाकी में इसको ना करें। फिर आपको अपने शोहर या अहिल्या को खिला पीला देना है इस तरह से इंशाअल्लाह बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम का वजीफा कगार होगा

बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम का वजीफा
bismillah hir rahman nir raheem ka wazifa
लोकप्रिय लेख

यह भी देखे