Homeइस्लामअल्लाह हू अकबर अजान पूरी allah hu akbar azan in hindi

अल्लाह हू अकबर अजान पूरी allah hu akbar azan in hindi

अल्लाह हू अकबर अजान पूरी allah hu akbar azan in hindi फज्र की अजान हिंदी में दुनिया में सबसे पहले अजान किसने दी अज़ान का अर्थ मतलब हिंदी में अजान कैसे देते हैं।

अजान कैसे देते हैं Azan in Hindi (अल्लाह हू अकबर)

allah hu akbar azan in hindi: फर्ज नमाजो से पहले अजान देना सुन्नते मुअक्किदा है, और शेआरे इस्लाम में दाखिल है। जो शख्स अजान दे उसे चाहिए, कि क़िबला की तरफ मुंह करके खड़ा हो एंव अपने दोनों उंगलियों को कानो के दोनों सूराखो में डाल कर बुलन्द आवाज (ऊँची आवाज) से अजान के बोल कहे।

अजान अकामत (Azan aur iqamat)

allah hu akbar azan in hindi: अजान के बाद, जमाअत से पहले अकामत(तकबीर) कही जाती है अकामत बिलकुल अजान की तरह होती है। सिर्फ चंद बातो का फर्क है:-

  • अकामत में हय्य अलस्सलात और हय्य अलल फलाह के बाद कद का- मतिस्सलात कहे।
  • अकामत अजान के मुकाबले में जरा पस्त आवाज से कहे।
  • अकामत कहते वक्त कानो के सूराखो में उंगलिया डालने की जरुरत नहीं।

अल्लाह हू अकबर अजान पूरी हिंदी में

allah hu akbar azan in hindi: अजान अल्लाह हू अकबर से शुरू किया जाता है, लेकिन ऐसे बहुत से दुनिया में मौजूद है जो अल्लाह हु अकबर का अर्थ मतलब नहीं जानते। ऐसे में अजान हिंदी में लिखा हुआ और अजान का अर्थ मतलब तर्जुमा हिंदी में बताया जा रहा है।

अजान के अल्फाजअजान का अर्थ मतलब तर्जुमा इन हिंदी
अल्लाहु अकबर
अल्लाहु अकबर,
अल्लाहु अकबर
अल्लाहु अकबर,
अल्लाह सब से महान है।
अल्लाह सब से महान है।
अल्लाह सब से महान है।
अल्लाह सब से महान है।
अश-हदू अल्ला-इलाहा इल्लल्लाह
अश-हदू अल्ला-इलाहा इल्लल्लाह
मैं गवाही देता हूं कि अल्लाह के सिवा कोई दूसरा इबादत के काबिल नहीं।
मैं गवाही देता हूं कि अल्लाह के सिवा कोई दूसरा इबादत के काबिल नहीं।
अश-हदू अन्ना मुहम्मदर रसूलुल्लाह
अश-हदू अन्ना मुहम्मदर रसूलुल्लाह
मैं गवाही देता हूं कि मुहम्मद सल्ल. अल्लाह के रसूल हैं।
मैं गवाही देता हूं कि मुहम्मद सल्ल. अल्लाह के रसूल हैं।
ह़य्य ‘अलस्सलाह
ह़य्य ‘अलस्सलाह,
आओ इबादत की ओर।
आओ इबादत की ओर।
ह़य्य ‘अलल्फलाह
हय्य ‘अलल्फलाह,
आओ सफलता की ओर ।
आओ सफलता की ओर।
अल्लाहु अकबर
अल्लाहु अकबर,
अल्लाह सब से महान है।
अल्लाह सब से महान है
ला-इलाहा इल्लल्लाहअल्लाह के सिवा कोई इबादत के काबिल नहीं।
अस्‍सलातु खैरूं मिनन नउम अस्‍सलातु खैरूं मिनन नउम नोट (फज्र की अजान में ह़य्य ‘हय्य ‘अलल्फलाह” के बाद दो मर्तबा अस्‍सलातु खैरूं मिनन नउम कहेनमाज़ नींद से बहतर है नमाज़ नींद से बहतर है*
अजान का अर्थ मतलब तर्जुमा इन हिंदी

यह पढ़े:

अल्लाह हू अकबर अजान

अजान से सम्बंधित सवाल जवाब

हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने हज़रत अब्दुल्लाह बिन ज़ैद से कहा कि तुम हज़रत बिलाल को अज़ान इन शब्‍दों में पढने की हिदायत कर दो, उनकी आवाज़ बुलंद है। इसलिए वह हर नमाज़ के लिए इसी तरह अज़ान दिया करेंगे। इस तरह से दुनिया में पहली अज़ान की प्रणाली स्थापित हुई और इस तरह हज़रत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु इस्लाम के पहले अज़ान देने वाले के रूप में प्रसिद्ध हुए।

फज्र की अजान और बाकी के अजान के बोल में कोई फर्क नहीं है। फज्र की अजान में ह़य्य ‘हय्य ‘अलल्फलाह” के बाद दो मर्तबा अस्‍सलातु खैरूं मिनन नउम कहते है। इसी लाइन को फज्र की अजान में बढ़ा दिया जाता है।

औरत और मर्द की नमाज में बहुत ज्यादा फर्क नहीं होता है। जो हुक्म मर्द के लिए नमाज पढने के लिए वही हुक्म, औरत के लिए अधिक जानकारी के लिए औरत के नमाज का तरीका पढ़े।

लोकप्रिय लेख

यह भी देखे