Homeनात शरीफआला हजरत की नात शरीफ बरेली Ala Hazrat Naat Lyrics in Hindi

आला हजरत की नात शरीफ बरेली Ala Hazrat Naat Lyrics in Hindi

आला हजरत की नात शरीफ बरेली Ala Hazrat Naat Lyrics in Hindi ala hazrat kalam in hindi आला हजरत शायरी इन हिंदी Ala Hazrat shayari in Hindi Lyrics


आला हजरत की नात शरीफ बरेली

आज एक और नात शरीफ नजम शायरी हिंदी में सुनते हैं कि महशर में सिर्फ उनकी रसाई है लेकर हाजिर है Ala Hazrat Naat Lyrics in Hindi sunte hain ke mehshar mein sirf unki rasai hai lyrics

Ala Hazrat Naat Lyrics in Hindi

सुनते हैं कि महशर में सिर्फ उनकी रसाई है

गर उनकी रसाई है लो जब तो बन आई है

मछला है कि रहमत ने उम्मीद बंधाई है

क्या बात तेरी मुजरिम क्या बात बनाई है

बाज़ारे अमल में तो सौदा न बना अपना

सरकार करम तुझमें ऐ बी की समाई है

सब ने सफ़े महशर में ललकार दिया हमको

ऐ बेकसों के आक़ा अब तेरी दुहाई है

यूं तो सब उन्ही का है पर दिल की अगर पूंछो

यह टूटे हुए दिल ही ख़ास उनकी कमाई है (आला हजरत की नात शरीफ बरेली)

ज़ेर गये भी कब के दिन ढलने पे हैं प्यारे

उठ मेरे अकेले चल क्या देर लगाई है

गिरते हुओं को मुज़दा सजदें में गिरें मौला

रो रो के शफाअत की तमहीद उठाई है

ऐ दिल ये सुलगना क्या जलना है तो जल भी उठ

दम घुटने लगा ज़ालिम क्या धूनी रमाई है

मुजरिम को ना शरमाओ अहबाब कफन ढक दो

मुह देख के क्या होगा परदे में भलाई है

अब आप ही संभाले तो काम अपने संभल जाएँ

हमने तो कमाई सब खेलों में गबाई है

ऐ इश्क तेरे सदक़े जलने से छूटे सस्ते

जो आग बुझा देगी वो आग लगाई है

हिरसो हवस से बद से दिल तूभी सितम करले

तू ही नहीं बेगाना दुनिया ही पराई है

हम दिल जले हैं किसके हांथ फ़ितनों के परखले

क्यों फूंक दूं इक उफ से क्या आग लगाई है

तयबा ना सही अफ़ज़ल मक्का ही बड़ा ज़ाहिद

हम इश्क के बन्दे हैं क्यों बात बढ़ाई है

मतलअ् में ये शक क्या था वल्लाह रज़ा वल्लाह

सिर्फ उनकी रसाई है सिर्फ उनकी रसाई है

यह पढ़े:

Sunte hain ke mehshar mein sirf unki rasai hai Lyrics

Sunte hain ki mehshar me sirf unki rasai hai

Gar unki rasai hai lo jab to ban aai hai

Machla hai ki rehmat ne ummeed bandhai hai

Kya baat teri mujrim kya baat bana-e hai

Baazare amal main to sauda na bana apna

Sarkar karam tujh mein aibee ki sama-e hai

Sab ne safay mahshar me lalkaar diya hamko

Ae be-kason ke aaqa ab teri duha-e hai

Yu(n) to sab unhi ka hai par dil ki agar poonchho

Yeh toote hue dil hi khas unki kama-e hai

Zaair gaye bhi kab ke din dhalne pe hai pyaare

Uth mere akele chal kya der laga-e hai

Girte hu-o ko muzda sajde mein gire Maula

Ro ro ke shafa-at ki tamheed utha-e hai

Ae dil ye sulag-na kya jalna hai to jal bhi uth

Dum ghutne laga zalim kya dhooni ramai hai

Mujrim ko na sharmao ahbaab kafan dhak do (Ala Hazrat Naat Lyrics in Hindi)

Muh dekh ke kya hoga parde mein bhala-e hai

Ab aap hi sambhalein to kaam apne sambhal jaayein

Humne to kamai sab khelon mein ganwai hai

Aye ishq tere sadqe jalne se choote saste

Jo aag bujha degi woh aag lagai hai

Hirso Hawas Se Bud Se Dil Toobhi Sitam Kar Le

Tu He Nahi Begana Duniya He Paraai Hai

Hum dil jale hain kiske haat fitnon ke parkaale

Kyun foonk du ik uf se kya aag laga-e hai

Taiba na sahi afzal makka hi bada zaahid

Hum ishq ke bande hain kyo baat badaai hai

Mat- laa me ye shak kya tha wallah raza wallah

Sirf unki rasa-e hai sirf unki rasa-e hai

Ala Hazrat Naat Lyrics in Hindi

यह पढ़े:

sunte hain ki maheshwar mein sirf unki rasai hai naat lyrics
लोकप्रिय लेख

यह भी देखे